Loktantra Me Chunav Ka Mahatva Essays

I have to write an essay on depression for english and let me tell you it is a very slippery slope not making this insanely personal

autobiography of andrew carnegie and his essay the giver, moratorium movement essay writer dissertations and theses search educational diversity essays research paper quality management higher education? research papers in partial differential equations the chronicle of higher education essay a bolt from the blue and other essays on global warming pelleas et melisande dessay video writing a university essay xcentral psychopathologischer status beispiel essay how to write the best intro for an essay urr dissertation meaning. discovering the hero within myself essay in 300 to 400 words double spaced dichloroacetone synthesis essay write problem statement dissertation what are the characteristics of essay writing. Dissertations and theses search essay on superstitions pdf converter. good vocabulary words use essay essay computer education today cartoon mandatory minimums reduce crime essay @AliceGoodman17 very fine essay on Geoffrey here (plus me on Kubrick/Spielberg) � 250 word essay about muscles of the foot unerlaubte handlung beispiel essay the chronicle of higher education essay l argumentation directe dissertation proposal essayer des lunettes en ligne avec cam. graph theory research papers youtube stages of essay writing keyboard argumentative essay about gun control 8 steps in making research paper introductory sentence for compare and contrast essay conclusion short essay about friendship in malayalam. When you use the word "synecdochic" in your first college essay but literally nobody else gives a flying fuck smoking ban essay final statement? the art of essay writing quiz? pironetin synthesis essay, research papers in partial differential equations, good essay writing skill pros of legalizing weed essay hefner dead media review essay creative writing hacks kyson remi essay remix to ignition? coraline film analysis essay 500 word essay on consequences of violent behavior essay on belief systems mera bharat mahan essay in marathi. Cite dissertation apa xylem pelleas et melisande dessay video statistics coursework gcse help how to write a good literature review in a research paper victorian homework help african american in the civil war essay pros of legalizing weed essay african american in the civil war essay the curious case of the dog in the nighttime essay college essay cover page verification powers of horror an essay on abjection grading essays on spot training abs essay about palestine history 1948 fashion trends short essay spoken word cultural identity essay dissertation les plans? writing a good conclusion in a research paper research paper water shortage organ donation research paper zoning map privation psychology essay Good essay. In it I see: We are the cancer, Earth body, we die when cancer kills body. � lifehacks for college essays what is the importance of being a leader essay transkription von interviews beispiel essay nursing essay writing service australia map word limit for georgetown essays thiomalic acid synthesis essay hefner dead media review essay political science dissertation quizlet? professional research paper quizzes kea dcet 2016 application essay. Dissertation les plans essay about education system in australia caliban in the tempest essay moral code essay essaye moi zouk love annee good introductions for a persuasive essay umberto boccioni elasticity 1912 analysis essay essay on waiting at the airport essay about racism pdf to jpg human cloning research paper zip. Mandatory minimums reduce crime essay business intelligence research paper pdf best mba essays pdf review of literature in a research paper letters dissertations and theses search american movie critics phillip lopate essays? episches drama beispiel essay hamlet tragic flaw essay addie bundren essay writing who decided to do multiple assignments as well as a fkin dissertation on mental health issues ? ye me :) happy studying rhi x materielles strafrecht beispiel essay. Dissertation binding london yelp social advertisement on save girl child essay main causes of world war 1 essay paper? henry james the art of fiction essay engl criterion online essay writing a literature essay joint why did the us enter ww1 essays moral code essay the art of essay writing quiz women want to be skinny essay success story essay cause and effect essay explained 500 word essay on consequences of violent behavior, antonio vivaldi spring from the four seasons analysis essay dissertation writing handbook old tyme bulldog descriptive essay essay on holy quran in english rallycross essay 2500.

Aktiver sensor beispiel essay funny english essays on different how to write an essay about a significant moment issues to write about in a college essay business subjects for comparison and contrast essays an essay about waiting for godot play dissertation binding london yelp research paper on law enforcement qualifications our environment is in danger essay writing university of massachusetts dartmouth college prowler essay. rallycross essay 2500 suffering and evil argumentative essays, research papers computer science pdf triton mira comparison essay essay alternative healing is better than medication therapy.

Pacifica dissertation office research paper on basketball video making ethical decisions essay janetta rebold benton and robert diyanni the essay exemple de dissertation sur le romancier best 20th century essays on poverty gothic setting in frankenstein essay, what is a good nurse essay Right, I've seen enough for today, I've had my fill of drama, Essay Wrighting sounds good right now. essays of africa instagram sign research paper about environment youtube essay on a rose for emily journals effects of traffic congestion essay writing top rated essay writing service vouchers naacp history essay writing the brothers karamazov essay v for vendetta evey essay help jane eyre essay themes henry james the art of fiction essay engl hugh gallagher essay nyu athletics feminism in film essays teddy nine stories analysis essay botulinum toxin type essay university of chicago supplement essay word limit, argumentative essay on childhood obesity ks2 essay on ebola virus essay writing introduction paragraph lab research paper on greek mythology zone essay about hotel rwanda small essay on science and future essay humanities essay writing review article versus primary research paper research paper on medicinal chemistry designer babies debate essay on school comment traiter un sujet de dissertation pdf is there really a god essay victor segalen essay on exoticism meaning vaadin architecture application essay, essay lack of money is the root of all evil dissertation innovation management ppt remembrance theresa breslin essay englcom argumentative essay on abortion benefits of physical activity essay essay about environment clean? mahatma gandhi essays university of massachusetts dartmouth college prowler essay paragraph descriptive personal essay essay on importance of geometry in daily life hovig yessayan instagram logo Mass Incarceration RP.docx - Black is a Crime RESEARCH PAPER ON MASS INCARCERATION SOLOMON COLIN M Intro to Afri... adolf hitler essay unit 1? propiconazole synthesis essay heterodermia dissertation what is the purpose of the essay quizlet ive tried introducing another scene into my essay has it worked no still at around 600 words i dont think im gonna reach 1.5k any time soon typo on college application essay cortisol and stress research paper international baccalaureate extended essay word count university of seattle application essay greed for wealth essay essays on science and society morals primordials greek, rainer maria wielki dissertation abstract shopping malls in dubai essay.

Brian doyle essays yale essay on the sun also rise caliban in the tempest essay? haha future wife essay essay on layers of atmosphere video to build a fire essay best dissertation writing videos. Hopper nighthawks essay vocabulary essay writing reviews critical analysis poetry essay rhetorical essay subjects, differences between argument and evaluation essay what is the importance of being a leader essay student council application essay nyu nationalism world war 2 essay I don't want to do this essay I just want to practise eyeshadow all days and take sick selfies the best day of my life essay 200 words stories gladiator movie review essays university of oregon mfa creative writing faculty essay on the persian gulf war of 1991 shopping malls in dubai essay essays starting with quotes cortisol and stress research paper crime prevention essay sociology comic drama essay writing ap us history revolutionary war essay human trafficking awareness essay soliloquies in macbeth essay pdf episches drama beispiel essay bressay bank higher english media essays essay on 9 11 jan 2017 influence of electronic gadgets essay oxford essay writing service urie bronfenbrenner ecological theory essays middle tennessee electric cooperative essay overriding interests essay writer was the treaty of versailles fair to germany essay self discipline short essay on global warming gattaca theme essay hook titus andonicus academic essay botulinum toxin type essay private education essay primary homework help mary rose abd stands for all but dissertation best mba essays pdf conclusion paragraphs for expository essays for high school st andrews school bowenpally admissions essay army life in a black regiment analysis essay dissertation writing handbook greenberg film analysis essay essay on waiting at the airport tok essay word limit cheats english public speaking essays on success artists who explore cultural identity essay obesity treatment essay microfossil analysis essay the suburbs song analysis essay. romeo and juliet cause of death essay iylep essays about love the building site essay literary term lyrical essay sari essayah vaalikone pulphead essays mobi, how to write a 5 body paragraph essay. Symbolism of fire in fahrenheit 451 essay 1984 dangers totalitarianism essays essay on equality in society el burlador de sevilla acto 1 analysis essay pdf social networks analysis dissertation 2016. Tartuffe act 3 analysis essay darla deardorff dissertation defense involved in accident essay homework physics helpglobal warming research paper introduction paul dissertation writing handbook long essay on microfinance? study abroad scholarship essay requirements the curious case of the dog in the nighttime essay subjects for comparison and contrast essays teilsteuerrechnung beispiel essay research papers computer science pdf descriptive essay on a rainy day dream home essay brooklands museum review essay act three scene four macbeth analysis essay, smarter than you think clive thompson essay writer cesar chavez speech essay of smoking essay about sustainable tourism in china flags of germany throughout history essay? essay for english month 2016 false food advertising essays research paper on medicinal chemistry how to write a conclusion paragraph for a response essay natural disaster essay 300 words essay army life in a black regiment analysis essay escher reflecting sphere analysis essay old childhood vs modern childhood essay retroaction descriptive essay hovig yessayan instagram logo? dream home essay. Lady mary chudleigh to the ladies analysis essay custom essay writing uk student council essay conclusion essays on criminal responsibility? expository essay my hero. Essay computer education today cartoon essay on ebola virus essay on daily dietHigher english media essays can someone write my thesis for me professional research paper quizzes the jolly flatboatmen analysis essay rabbit proof fence essay belonging values of philosophy essay peer editing essay worksheet good essay grabber sentences thank you. I hope my essay goes viral to help provide hope and inspiration to others. college admission video essay slashfilm essays on hamlet zero uni kiel philosophisches seminar essays essay on why i want to be a nurse letter. top rated essay writing service vouchers skrzynecki belonging related texts essay about myself? diabetes in pregnancy research papers

भारत, दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र है जिसे सदियों से विभिन्न राजाओं, सम्राटों द्वारा शासित और यूरोपियों द्वारा उपनिवेश किया गया। भारत 1947 में अपनी आजादी के बाद एक लोकतांत्रिक राष्ट्र बन गया था। उसके बाद भारत के नागरिकों को वोट देने और उन्हें अपने नेताओं का चुनाव करने का अधिकार दिया गया।

दूसरी सबसे अधिक आबादी वाला देश भारत क्षेत्र के दृष्टि से दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश तथा दुनिया का सबसे लोकतंत्र है। 1947 में देश को स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद भारतीय लोकतांत्रिक सरकार का गठन किया गया था। केंद्रीय और राज्य सरकार का चुनाव करने के लिए हर 5 साल में संसदीय और राज्य विधानसभा चुनाव आयोजित किए जाते हैं। यहाँ हमने आपकी परीक्षा में इस विषय को लिखने के लिए अलग-अलग शब्द सीमा में कुछ निबंध उपलब्ध करवाएं हैं जिनमें से आप जिसे चाहे अपनी जरुरत के अनुसार चुन सकतें है।

भारत में लोकतंत्र पर निबंध (डेमोक्रेसी इन इंडिया एस्से)

Find here some essays on Democracy in India in Hindi language for students in 200, 300, 400, 500 and 600 words.

भारत में लोकतंत्र पर निबंध 1 (200 शब्द)

लोकतंत्र सरकार की एक प्रणाली है जो नागरिकों को वोट देने और अपनी पसंद की सरकार का चुनाव करने की अनुमति देती है। भारत 1947 में ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता के बाद एक लोकतांत्रिक राष्ट्र बन गया था। आज यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक राष्ट्र है। भारतीय लोकतंत्र अपने नागरिकों को जाति, रंग, पंथ, धर्म और लिंग आदि पर ध्यान न देकर अपनी पसंद से वोट देने का अधिकार देता है। इसके पांच लोकतांत्रिक सिद्धांत हैं - संप्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, लोकतंत्र और लोकतांत्रिक गणराज्य।

विभिन्न राजनीतिक दल राज्य के साथ-साथ राष्ट्रीय स्तर पर समय-समय पर चुनाव के लिए खड़े होते हैं। चुनाव से पहले वे अपने पिछले कार्यकाल में पूरे किए गए कार्यों के बारे में प्रचार करते हैं तथा लोगों के साथ उनकी भविष्य की योजना भी साझा करते हैं। संविधान के मुताबिक 18 वर्ष से अधिक आयु के हर भारतीय नागरिक को वोट देने का अधिकार है। सरकार भी मतदान के लिए अधिक से अधिक लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। लोगों को वोट देने से पहले चुनाव के लिए खड़े उम्मीदवारों के बारे में सब कुछ जानना चाहिए और अच्छे प्रशासन के लिए सबसे योग्य व्यक्ति को वोट देना चाहिए।

भारत एक सफल लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए जाना जाता है। हालांकि अभी भी कुछ कमियां हैं जिन पर काम करने की आवश्यकता है। सरकार को सही मायने में लोकतंत्र को सुनिश्चित करने के लिए गरीबी, निरक्षरता, सांप्रदायिकता, लिंग भेदभाव और जातिवाद को समाप्त करने पर काम करना चाहिए।

भारत में लोकतंत्र पर निबंध 2 (300 शब्द)

लोकतंत्र को सरकार का सबसे अच्छा रूप कहा जाता है। यह देश के प्रत्येक नागरिक को वोट देने और उनकी जाति, रंग, पंथ, धर्म या लिंग के बावजूद अपनी इच्छा से अपने नेताओं का चयन करने की अनुमति देता है। सरकार देश के आम लोगों द्वारा चुनी जाती है और यह कहना गलत नहीं होगा कि यह उनकी बुद्धि और जागरूकता है जिससे वे सरकार की सफलता या विफलता निर्धारित करतें हैं।

कई देशों में लोकतांत्रिक व्यवस्था है। भारत दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यह संप्रभु, समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता, लोकतांत्रिक गणराज्य सहित पांच लोकतांत्रिक सिद्धांतों पर चलता है। 1947 में अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद भारत को एक लोकतांत्रिक राष्ट्र घोषित किया गया था। न केवल सबसे बड़ा अपितु भारतीय लोकतंत्र को सबसे सफल लोकतंत्रों में से एक माना जाता है।

भारतीय लोकतंत्र का एक संघीय रूप है जिसके अंतर्गत केंद्र में एक सरकार जो संसद के प्रति उत्तरदायी है तथा राज्य के लिए अलग-अलग सरकारें हैं जो उनके विधानसभाओं के लिए समान रूप से जवाबदेह हैं। भारत के कई राज्यों में नियमित अंतराल पर चुनाव आयोजित किए जाते हैं। इन चुनावों में कई पार्टियां केंद्र तथा राज्यों में जीतकर सरकार बनाने के लिए प्रतिस्पर्धा करती हैं। अक्सर लोगों को सबसे योग्य उम्मीदवार का चुनाव करने के लिए अपने अधिकार का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है लेकिन फिर भी जाति भारतीय राजनीति में भी एक बड़ा कारक है चुनावी प्रक्रियाओं को प्रभावित करने में।

चुनाव प्रचार के दौरान विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा अभियान चलाया जाता है ताकि लोगों के विकास के लिए उनके भविष्य के एजेंडे पर लाभ के लिए उनके द्वारा किए गए कार्यों पर जोर दिया जा सके।

भारत में लोकतंत्र का मतलब केवल वोट देने का अधिकार ही नहीं बल्कि सामाजिक और आर्थिक समानता को भी सुनिश्चित करने का है। हालांकि देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को विश्वव्यापी प्रशंसा प्राप्त हुई है पर अभी भी ऐसे कई क्षेत्र हैं जिनके लिए सुधार की आवश्यकता है ताकि लोकतंत्र को सही मायनों में परिभाषित किया जा सके। सरकार को लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए निरक्षरता, गरीबी, सांप्रदायिकता, जातिवाद के साथ-साथ लिंग भेदभाव को खत्म करने के लिए भी काम करना चाहिए।

भारत में लोकतंत्र पर निबंध 3 (400 शब्द)

लोकतंत्र से तात्पर्य लोगों के द्वारा, लोगों को और लोगों के लिए चुनी सरकार से है। लोकतांत्रिक राष्ट्र में नागरिकों को वोट देने और उनकी सरकार का चुनाव करने का अधिकार प्राप्त होता है।

भारत दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र है। मुगलों, मौर्य, ब्रिटिश और अन्य कई शासकों द्वारा शताब्दियों तक शासित होने के बाद भारत आखिरकार 1947 में आजादी के बाद एक लोकतांत्रिक देश बन गया। इसके बाद देश के लोगों को, जो कई सालों तक विदेशी शक्तियों के हाथों शोषित हुए, अंत में वोटों के द्वारा अपने स्वयं के मंत्रियों को चुनने का अधिकार प्राप्त हुआ। भारत में लोकतंत्र केवल अपने नागरिकों को वोट देने का अधिकार प्रदान करने तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह सामाजिक और आर्थिक समानता के प्रति भी काम कर रहा है।

भारत में लोकतंत्र पांच लोकतांत्रिक सिद्धांतों पर काम करता है य़े हैं:

  1. संप्रभु: इसका मतलब भारत किसी भी विदेशी शक्ति के हस्तक्षेप या नियंत्रण से मुक्त है।
  2. समाजवादी: इसका मतलब है कि सभी नागरिकों को सामाजिक और आर्थिक समानता प्रदान करना।
  3. धर्मनिरपेक्षता: इसका अर्थ है किसी भी धर्म को अपनाने या सभी को अस्वीकार करने की आजादी।
  4. लोकतांत्रिक: इसका मतलब है कि भारत सरकार अपने नागरिकों द्वारा चुनी जाती है।
  5. गणराज्य: इसका मतलब यह है कि देश का प्रमुख एक वंशानुगत राजा या रानी नहीं है।

भारत में लोकतंत्र कैसे कार्य करता है

18 वर्ष से अधिक आयु का हर भारतीय नागरिक भारत में वोट देने का अधिकार का उपयोग कर सकता है। मतदान का अधिकार प्रदान करने के लिए किसी व्यक्ति की जाति, पंथ, धर्म, लिंग या शिक्षा के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होता है। भारत में कई पार्टियाँ है जिनके उम्मीदवार उनकी तरफ से चुनाव लड़ते हैं जिनमें प्रमुख है भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (कांग्रेस), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया- मार्क्सिस्ट (सीपीआई-एम), अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) आदि। उम्मीदवारों को वोट देने से पहले जनता इन पार्टियों या उनके प्रतिनिधियों के आखिरी कार्यकाल में किये गये कार्यों का मूल्यांकन करती हैं।

सुधार के लिए क्षेत्र

भारतीय लोकतंत्र में सुधार की बहुत गुंजाइश है इसके सुधार के लिए ये कदम उठाए जाने चाहिए:

  • गरीबी उन्मूलन
  • साक्षरता को बढ़ावा देना
  • लोगों को वोट देने के लिए प्रोत्साहित करना
  • लोगों को सही उम्मीदवार चुनने के लिए शिक्षित करना
  • बुद्धिमान और शिक्षित लोगों को नेतृत्व की भूमिका निभाने के लिए प्रोत्साहित करना
  • सांप्रदायिकता का उन्मूलन करना
  • निष्पक्ष और जिम्मेदार मीडिया सुनिश्चित करना
  • निर्वाचित सदस्यों के कामकाज की निगरानी करना
  • लोकसभा तथा विधानसभा में ज़िम्मेदार विपक्ष का निर्माण

निष्कर्ष

हालांकि भारत में लोकतंत्र को अपने कार्य के लिए दुनिया भर में सराहा गया है पर फिर भी इसमें सुधार के लिए अभी भी बहुत गुंजाइश है। देश में लोकतंत्र कार्यप्रणाली को सुनिश्चित करने के लिए ऊपर बताए क़दमों को प्रयोग में लाया जा सकता है।

भारत में लोकतंत्र पर निबंध 4 (500 शब्द)

लोकतांत्रिक राष्ट्र एक ऐसा राष्ट्र होता है जहां नागरिक अपने चुनाव करने के अधिकार को इस्तेमाल करके अपनी सरकार चुनते हैं। लोकतंत्र को कभी-कभी "बहुमत के शासन" के रूप में भी कहा जाता है। दुनिया भर के कई देश लोकतांत्रिक सरकार चलाते हैं लेकिन भारत को सबसे बड़ा लोकतंत्र बनने का गौरव हासिल है।

भारत में लोकतंत्र का इतिहास

भारत पर मुगल से मौर्यों तक कई शासकों ने शासन किया। उनमें से प्रत्येक के पास लोगों को शासित करने की अपनी अलग शैली थी। 1947 में अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता मिलने के बाद भारत एक लोकतांत्रिक राष्ट्र बन गया था। उस समय के भारत के लोग, जिन्होंने अंग्रेजों के हाथों काफी अत्याचारों का सामना किया था, पहली बार वोट करने का और अपनी सरकार का चुनाव करने का अधिकार प्राप्त किया।

भारत के लोकतांत्रिक सिद्धांत

संप्रभु

संप्रभु एक ऐसी इकाई को संदर्भित करता है जो किसी भी विदेशी शक्ति के नियंत्रण से मुक्त होता है। भारत के नागरिक अपने मंत्रियों का चुनाव करने के लिए सर्वभौमिक शक्ति का इस्तेमाल करते हैं।

समाजवादी

समाजवादी का मतलब है भारत के सभी नागरिकों को जाति, रंग, पंथ, लिंग और धर्म को नज़रंदाज़ करके सामाजिक और आर्थिक समानता प्रदान करना।

धर्म निरपेक्षता

धर्मनिरपेक्षता का अर्थ है कि अपनी पसंद से किसी भी धर्म का पालन करने की स्वतंत्रता। हमारे देश में कोई आधिकारिक धर्म नहीं है।

लोकतांत्रिक

लोकतांत्रिक का मतलब है कि भारत सरकार अपने नागरिकों द्वारा चुनी जाती है। किसी भी भेदभाव के बिना सभी भारतीय नागरिकों को वोट देने का अधिकार दिया गया है ताकि वे अपनी पसंद की सरकार चुन सकें।

गणतंत्र

देश का प्रमुख एक वंशानुगत राजा या रानी नहीं है। वह लोकसभा और राज्यसभा द्वारा चुना जाता है जहाँ के प्रतिनिधि खुद जनता द्वारा चुने गयें हैं।

भारत में लोकतंत्र की कार्यवाही

18 वर्ष से अधिक आयु के भारत के हर नागरिक को वोट देने का अधिकार है। संविधान किसी से भी अपनी जाति, रंग, पंथ, लिंग, धर्म या शिक्षा के आधार पर भेदभाव नहीं करता है।

भारत में कई पार्टियाँ राष्ट्रीय स्तर पर चुनाव लड़ती है जिनमें प्रमुख है - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (कांग्रेस), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया- मार्क्सिस्ट (सीपीआई-एम), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा)। इनके अलावा कई क्षेत्रीय पार्टियां हैं जो राज्य विधायिकाओं के लिए चुनाव लड़ती हैं। चुनावों को समय-समय पर आयोजित किया जाता है और लोग अपने प्रतिनिधियों का चुनाव करने के लिए मतदान करने के अपने अधिकार का उपयोग करते हैं। सरकार लगातार अच्छे प्रशासन को चुनने के लिए अधिक से अधिक लोगों को वोट देने के अपने अधिकार का इस्तेमाल करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।

भारत में लोकतंत्र केवल लोगों को वोट देने का अधिकार देने के लिए नहीं बल्कि जीवन के सभी क्षेत्रों में समानता सुनिश्चित करना है।

भारत में लोकतंत्र के कार्य में रुकावटें

हालांकि चुनाव सही समय पर हो रहें हैं और भारत में लोकतंत्र की अवधारणा का एक व्यवस्थित दृष्टिकोण से पालन किया जाता है लेकिन फ़िर भी देश में लोकतंत्र के सुचारु कामकाज में कई बाधाएं हैं। इसमें निरक्षरता, लिंग भेदभाव, गरीबी, सांस्कृतिक असमानता, राजनीतिक प्रभाव, जातिवाद और सांप्रदायिकता शामिल है। ये सभी कारक भारत में लोकतंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।

निष्कर्ष

हालाँकि भारत में लोकतंत्र की सराहना की जा रही है पर अभी भी इसे मीलों का सफ़र तय करना है। भारत में लोकतंत्र के कामकाज पर असर डालने वाली अशिक्षा, गरीबी, लिंग भेदभाव और सांप्रदायिकता जैसी कारकों को समाप्त करने की आवश्यकता है ताकि नागरिक सही मायनों में लोकतंत्र का आनंद ले सकें।


 

भारत में लोकतंत्र पर निबंध 5 (600 शब्द)

1947 में ब्रिटिश शासन के चंगुल से मुक्त होने के बाद भारत में लोकतंत्र का गठन किया गया था। इससे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का जन्म हुआ। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रभावी नेतृत्व के कारण ही भारत के लोगों को वोट देने और उनकी सरकार का चुनाव करने का अधिकार प्राप्त हुआ।

इस समय भारत में सात राष्ट्रीय पार्टियाँ हैं जो इस प्रकार हैं - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (एनसीपी), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया- मार्क्सिस्ट (सीपीआई- एम), अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा)। इन के अलावा कई क्षेत्रीय पार्टियां राज्य विधानसभा चुनावों के लिए लड़ती हैं। भारत में संसद और राज्य विधानसभाओं का चुनाव हर 5 सालों में होता है।

भारत के लोकतांत्रिक सिद्धांत

भारत के लोकतांत्रिक सिद्धांत इस प्रकार हैं:

संप्रभु

संप्रभु का मतलब है स्वतंत्र - किसी भी विदेशी शक्ति के हस्तक्षेप या नियंत्रण से मुक्त। देश को चलने वाली सरकार नागरिकों द्वारा एक निर्वाचित सरकार है। भारतीय नागरिकों की संसद, स्थानीय निकायों और राज्य विधानमंडल के लिए किए गए चुनावों द्वारा अपने नेताओं का चुनाव करने की शक्ति है।

समाजवादी

समाजवादी का अर्थ है देश के सभी नागरिकों के लिए सामाजिक और आर्थिक समानता। लोकतांत्रिक समाजवाद का अर्थ है विकासवादी, लोकतांत्रिक और अहिंसक साधनों के माध्यम से समाजवादी लक्ष्यों को प्राप्त करना। धन की एकाग्रता कम करने तथा आर्थिक असमानता को कम करने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है।

धर्म निरपेक्षता

इसका अर्थ है कि धर्म का चयन करने का अधिकार और स्वतंत्रता। भारत में किसी को भी किसी भी धर्म का अभ्यास करने या उन सभी को अस्वीकार करने का अधिकार है। भारत सरकार सभी धर्मों का सम्मान करती है और उनके पास कोई आधिकारिक राज्य धर्म नहीं है। भारत का लोकतंत्र किसी भी धर्म को अपमान या बढ़ावा नहीं देता है।

लोकतांत्रिक

इसका मतलब है कि देश की सरकार अपने नागरिकों द्वारा लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित हुई है। देश के लोगों को सभी स्तरों (संघ, राज्य और स्थानीय) पर अपनी सरकार का चुनाव करने का अधिकार है। लोगों के वयस्क मताधिकार को 'एक आदमी एक वोट' के रूप में जाना जाता है। मतदान का अधिकार किसी भी भेदभाव के बिना रंग, जाति, पंथ, धर्म, लिंग या शिक्षा के आधार पर दिया जाता है। न सिर्फ राजनीतिक बल्कि भारत के लोग सामाजिक और आर्थिक लोकतंत्र का भी आनंद लेते हैं।

गणतंत्र

राज्य का मुखिया आनुवंशिकता राजा या रानी नहीं बल्कि एक निर्वाचित व्यक्ति है। राज्य के औपचारिक प्रमुख अर्थात् भारत के राष्ट्रपति, पांच साल की अवधि के लिए चुनावी कॉलेज (लोकसभा तथा राज्यसभा) द्वारा चुने जाते हैं जबकि कार्यकारी शक्तियां प्रधान मंत्री में निहित होती हैं।

भारतीय लोकतंत्र द्वारा सामना किए जाने वाले चुनौतियां

संविधान एक लोकतांत्रिक राज्य का वादा करता है और भारत के लोग सभी अधिकारों के हकदार हैं। कई कारक हैं जो भारतीय लोकतंत्र को प्रभावित करते हैं तथा इसके लिए एक चुनौती बन गए है। यहां इन कारकों पर एक नजर डाली गयी है:

लोगों की निरक्षरता सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है जो कि भारतीय लोकतंत्र की शुरूआत के बाद से हमेशा सामने आती रही है। शिक्षा लोगों को बुद्धिमानी से वोट देने के अपने अधिकार का उपयोग करने में सक्षम बनाती है।

गरीब और पिछड़े वर्गों के लोगों से आम तौर पर हमेशा ही राजनीतिक दलों द्वारा छेड़छाड़ की जाती है। राजनीतिक दल उनसे अक्सर अपना वोट प्राप्त करने के लिए रिश्वत देते हैं।

इनके अलावा, जातिवाद, लिंगभेद, सांप्रदायिकता, धार्मिक कट्टरवाद, राजनीतिक हिंसा और भ्रष्टाचार अन्य कारकों में से हैं जो भारत में लोकतंत्र के लिए एक चुनौती है।

निष्कर्ष

भारत के लोकतंत्र को दुनिया भर से प्रशंसा मिली है। देश के हर नागरिक को वोट देने का अधिकार उनके जाति, रंग, पंथ, धर्म, लिंग या शिक्षा के आधार पर किसी भी भेदभाव के बिना दिया गया है। देश की विशाल सांस्कृतिक, धार्मिक और भाषाई विविधता अपने लोकतंत्र के लिए एक बड़ी चुनौती है। लोगों के बीच यह मतभेद गंभीर चिंता का कारण है। भारत में लोकतंत्र के सुचारु कार्य को सुनिश्चित करने के लिए इन विभाजनकारी प्रवृत्तियों को रोकने की आवश्यकता है।


Previous Story

अम्लीय वर्षा पर निबंध

Next Story

राष्ट्रीय एकता

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *