An Essay On Co Education In Hindi

Essay about Single-sex education vs. Coeducation

962 Words4 Pages

Education has been an important factor of all of our lives for an exceptional amount of time, but unfortunately, America has been falling behind from other nations in their education system compared to other nations (Pahlke 444). Almost all of our public schools in our country are coeducational and only handful of them are single-sex educational schools. Single-sex education should be taken into high consideration for most students to attend because of the benefits they might gain from them. It is important to look at all possible ways to try and better our education system for the benefit of the children and teenagers attending school. The most important years of schooling that provide a solid background for all students would be…show more content…

Another example of students being more focused in single-sex classrooms is when Hoffman, in his article "The Effect of Single-Sex Instruction in a Large, Urban, At-Risk High School", mentions: Girls reported SSI as academically preferable because there were fewer disruptions (Parker & Rennie, 2002), better opportunities to concentrate on work (Mullholland et al., 2004), and diminished feelings of embarrassment for speaking up in class (Jackson & Smith, 2000; McCoy, 1995). Girls also have claimed that they were disadvantaged in CE classrooms (Jackson & Smith) and that SSI classes offered more support, less hassle, and less ridicule and teasing from peers (Parker & Rennie).(Hoffman 16)
It is clearly noted that the students were in fact more focused in the classrooms without the opposite sex being present which substantially will be a major benefit for our country in helping it increase our academic level back to the top or to be even with the countries that our currently ahead of us in that aspect. Not only are the students more focused in the classrooms with single-sex classrooms, but they also feel more comfortable with each other and aren't very concerned with the way they look. They don't need to be worrying about impressing anyone because everyone there is of the same gender so it would be a waste of their time if they tried to impress one another. It is common for them to be able to go

Show More

सह शिक्षा से तात्पर्य है- लड़कियों तथा लड़कों का एक साथ पढ़ना। आधुनिक युग में जहां लड़कियां हर क्षेत्र में लड़कों के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन कर सकने में सक्ष हैं, उन्हें शिक्षा के अधिकार से वचिंत नहीं रखा जा सकता।

हमारा देश एक विकासशील देश है। इसके सीमित साधनों में लड़कियों व लड़कों के लिये अलग अलग विद्यालय अथवा प्रशिक्षण केन्द्रों की व्यवस्था करना एक महंगा कार्य है। लड़कियों को पढ़ाने के लिये प्रोत्साहित व अतिरिक्त खर्चों को वहन करने से ही सह शिक्षा का महत्व बढ़ता है।

सह शिक्षा में छात्र छात्राएं एक साथ पढ़ते लिखते और मेलजोल बढ़ाते हैं। उनको एक दूसरे को समझने का पूर्ण अवसर मिलता है, जो उनके भावी जीवन में सहायक बनता है।

सह शिक्षा का प्रचलन पष्चिमी शिक्षा और सभ्यता की दने है। आज हर विकसित और विकासशील देश में इसका प्रचलन है। प्राचीन भारत में लड़के एवं लड़कियों को गुरूकुल में रखकर अलग अलग पढ़ाया जाता था। जहां चरित्र निर्माण पर अत्यधिक बल दिया जाता था। आधुनिक युग में परिस्थितियों के साथ साथ चरित्र और आचरण के अर्थों में परिवर्तन आया है। बदलते युग की समस्याओं को सुलझाने और उनका सामना करने के लिए युवा वर्ग का जागरूक होना और एकजुट होना जरूरी है। देश की प्रगति के लिये लड़के और लड़कियों की मानसिकता में विकास और उनकी बराबर की शिक्षा बहुत जरूरी है।

कुछ पुरातन पंथी लोग सहशिक्षा का विरोध करते हैं। उनके अनुसार लड़के और लड़कियों के साथ साथ पढ़ने और उठने बैठने से चरित्र और समाज की मर्यादाओं का हनन सम्भव है। पर सत्य इसके विपरीत है। दूरी आकर्षण बढ़ाती है और वातावरण में खुलापन लाने की अपेक्षा छुप छुप कर मिलने और अन्य बुराइयों का कारण बनती है। अतः हमें सचेत रहकर सह शिक्षा को ही प्रोत्साहित करना चाहिये।

सह शिक्षा आधुनिक युग की मांग है जिससे नागरिकों और देश का चौमुखी विकास संभव है।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *